.

Our Real hero sonu sood biography in hindi

Sonu sood Bio,Success story,wikipedia 

इस आर्टिकल में हमलोग हमारे और आपसब के चहेते रियल हीरो सोनू सूद जी के जीवनी और उनकी संघर्ष से लेकर सफलता तक की सक्सेस स्टोरी को जानेंगे।  आज lockdown के दौर में लोगो को घर पहुंचाने की बात हो ,मरीजों का इलाज कराने की बात हो ,स्टूडेंट की पढाई की बात हो या लोगो को रोजगार देने की बात हो इन सब में सोनू सूद एक नाम उभर कर आता है। जिसके काम ने लोगो का दिल और दिमाग दोनों पर राज कर रहा है। तो चलिए हमारे लिए इतना कुछ करने वाले के बारे में कुछ जान लेते है। तो चलिए सबसे पहले जानते है की सोनू सूद कौन है ?
Sonu sood success story

    सोनू सूद कौन है ?(Who is Sonu sood) 

    वैसे तो आज सोनू  सूद जी को किसी इंट्रोडक्शन की जरुरत नहीं है ,क्यूंकि covid-19 की इस मुश्किल घडी में इन्होने कुछ ऐसा कर दिखाया है की आज देश के ही नहीं विदेशो के लोग भी इन्हे जानने लगे है।फिर भी हम इनके सॉर्ट इंट्रोडक्शन जान लेते है। सोनू सूद एक इंडियन एक्टर ,समाज सेवी ,producer ,मॉडल और philanthropist है। सोनू सूद मुख्य रूप से हिंदी ,तमिल और तेलगु फिल्म्स में काम करते है। सोनू सूद को कई सारे अवार्ड्स भी मिल चुके है जिनकी चर्चा हमलोग आगे करेंगे। आज सोनू सूद के दो बेटे भी इशांत सूद और आयान सूद। 

    Sonu sood success story 

    आज हर कोई सोनू सूद का दीवाना है ,आज इनके लिए फिल्मो की लाइन लगी है ,और एक समय तब था जब उन्हें फिल्मो के लिए मुंबई की गलियों का चक्कर लगाना पड़ता था। तो चलिए जानते है इनके शुरुआत के स्ट्रगल की स्टोरी की कैसी परिस्थितियों से होकर आज सोनू सूद यहाँ इस मुकाम पर पहुंचे है। सोनू सूद का जन्म पंजाब के एक छोटे से शहर मोगा में 30 जुलाई 1973 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में हुआ था। इनके पिताजी का एक कपडे की दुकान थी जो आज भी है जिसे इनके पिताजी सँभालते थे। इनके पिताजी  का नाम सरोज सूद और माताजी का नाम शक्ति सूद है। 

    Sonu sood education qualification 

    सोनू सूद की प्रारंभिक शिक्षा उनके होमटाउन मोगा से ही हुई ,इसके बाद कॉलेज की पढाई के लिए वे नागपुर चले गए और वही से इन्होने अपनी मॉडलिंग की पढाई भी की। बाद में इन्होने इंजीनियरिंग भी किया। 1966 में इन्होने एक तेलगु महिला सोनाली से शादी कर ली। 

    सोनू सूद की सिनेमा जगत की यात्रा 

    सोनू सूद को शुरू से ही एक्टर बनना था ,इसीलिए वे अपनी पढाई पूरी करने के बाद वे मुंबई चले आये ,उन्होंने अपने माता पिता से एक वर्ष का समय लिए और बोले की मुंबई जाकर मै एक्टिंग के लिए काम ढूंढूगा और यदि काम नहीं मिला तो मै वापस आकर अपने कपडे के बिज़नेस को बढ़ाएंगे। मुंबई जाने के बाद उन्हें लगा की एक साल तो यु ही मुंबई की गलियों में ही बीत जायेंगे ,क्यूंकि उन्हें काम नहीं मिल रहा था और वे भटक रहे थे। 

    तभी एक दिन उन्हें एक कॉल आया जिसमे उनको एक तमिल फिल्म में छोटा सा किरदार मिला। वो उनके लिए बहुत कठिन था क्यूंकि उन्हें तो तमिल भाषा आती नहीं थी। फिर भी उनका चयन हुआ और वो काम करने लगे ,इसके बाद उनको धीरे -धीरे काम मिलने लगे। सोनू सूद को पहली तमिल फिल्म कालजघर मिली जिसमे उनका किरदार एक पादरी का था। 


    इसके बाद उनको दूसरी फिल्म भी तमिल भाषा में ही मिला ,और इसी प्रकार धीरे -धीरे उनको तमिल और तेलगु सिनेमा में पहचान मिलने लगी। उनको बॉलीवुड मतलब की हिंदी भाषा में पहली फिल्म 2002 में मिली ,इस फिल्म का नाम शहीद-ए-आजम था ,जिसमे इनका किरदार भगत सिंह का था। और इस फिल्म के बाद उनको हिंदी सिनेमा में भी पहचान मिली और इसके बाद उनको बहुत सारी हिंदी फिल्मे मिली जैसे "कहाँ हो तुम ,मिशन मुंबई ,युवा ,आसिक बनाया आपने जैसी ढेर सारि फिल्मे मिली। 

    इसके बाद सोनू सूद ने न सिर्फ तमिल ,तेलगु और हिंदी भाषा की फिल्मे की बल्कि पंजाबी ,अंग्रेजी और कन्नड़ भाषा की फिल्मे भी की। जैसे उनकी फिल्म "जिंदगी खुबशुरत है "पंजाबी भाषा में है ,तो वही 'रॉकइन मीरा' इंग्लिश भाषा में। और इसी प्रकार उनकी फ़िल्मी जगत की जौर्नी शुरू हुई और आज तो हर कोई उनका दीवाना है।  

    सोनू सूद की अच्छी एक्टिंग के कारण उनको बहुत सारे पुरस्कार भी मिल चुके है ,जैसे 2008 में आयी फिल्म "जोधा अकबर" के लिए उनको 'फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार ',तेलगु फिल्म अरुंधति के लिए सर्वश्रेष्ठ खलनायकी नंदी पुरस्कार के साथ -साथ तेलगु भाषा के सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता पुरस्कार ,इसके साथ हिंदी भाषा की सुपरहिट फिल्म दबंग के लिए अप्सरा अवार्ड और बेस्ट खलनायकी पुरस्कार भी मिला ,ऐसे ही इनको ढेर सारे अवार्ड मिले। 

    कोरोना महामारी के दौरान सोनू सूद द्वारा किये गये सामाजिक कार्य  

    मार्च 2020 में या 2021 आयी कोरोना महामारी में सोनू सूद ने बहुत सारे सराहनीय सामाजिक कार्य किये। मार्च 2020 में आयी कोरोना महामारी के कारण पूरी दुनिया में lockdown के कारण जब इंडिया के लोग देश -विदेश में फसे थे तब सोनू सूद ने उनको उनके घर पहुंचाया ,भोजन की व्यवस्था की। जिससे की लोगो को बहुत ज्यादा मदद हुई और लोग इनके दीवाने हो गए। इस स्थिति को सिर्फ पढ़ने से तो लगता है की यह कुछ सेकंड का काम है ,लेकिन यह काम इतना कठिन था की इसका अनुमान सिर्फ वही लोग लगा सकते है जो lockdown के दौरान कही बाहर फंसे थे। 

    lockdown के बाद बहुत सारे लोग बेरोजगार हो गए,बहुत सारे स्टूडेंट की पढाई छूटने लगी तब इन्होने बेरोजगार लोगो के लिए रोजगार उपलब्ध कराये ,स्टूडेंट के लिए स्कालरशिप उपलब्ध कराई और भी बहुत सारे काम कराये गए जिसको हम शब्दों में नहीं बया कर सकते। 


    कोरोना महामारी की दूसरी लहर में भी सोनू सूद पीछे नहीं हटे और लोगो के घर -घर तक ऑक्सीज़न को पहुंचाने की कोशिश करते रहे। आज सोनू सूद गरीबो के लिए किसी देवता से कम नहीं है। सोनू सूद ने डॉक्टर से भी मदद ली और आज हर रोज बहुत सारे लोगो का इलाज मुफ्त में करवाते है। और लोगो की मदद जल्द से जल्द करने के लिए उन्होंने सूद चैरिटी फाउंडेशन की स्थापना की। 

    सूद चैरिटी फाउंडेशन क्या है ?

    सूद चैरिटी फाउंडेशन अभिनेता और परोपकारी, सोनू सूद द्वारा स्थापित एक गैर सरकारी संगठन है। वह महामारी के दौरान अनगिनत परिवारों के लिए एक घरेलू नाम और एक समर्थन प्रणाली बन गया है। आम आदमी के प्रति उनके समर्पण ने उन्हें हर कद के लोगों की मदद के लिए विभिन्न पहल शुरू करने के लिए प्रेरित किया। वह अपने मानवीय प्रयासों के माध्यम से देश भर में जनता की सेवा करना जारी रखने के लिए एक मजबूत दृष्टि के साथ एक समर्पित टीम का नेतृत्व कर रहे हैं।

     इसमें अत्याधुनिक स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, रोजगार और प्रौद्योगिकी प्रगति प्रदान करना शामिल है। सूद चैरिटी फाउंडेशन की मदद से, वह एक ऐसा आंदोलन शुरू करना चाहते हैं जो लोगों को मानवता की सेवा के लिए हाथ मिलाने के लिए प्रोत्साहित करे। सूद चैरिटी फाउंडेशन ने दुनिया भर में हजारों लोगों की मदद की है। इस संगठन का निरंतर प्रयास जागरूकता बढ़ाना और जरूरतमंद लोगों की देखभाल करना है।

    सूद चैरिटी फाउंडेशन का उद्देश्य क्या है ?

    सूद चैरिटी फाउंडेशन का उद्देश्य  निराश्रित लोगों के जीवन को स्वस्थ और उत्पादक जीवन जीने के लिए आवश्यकताओं के साथ सशक्त बनाकर उन्हें बदलना है। इस दिशा में सूद चैरिटी फाउंडेशन का प्रयास उनकी आर्थिक सीमाओं से परे देखने के लिए उनका मार्गदर्शन करना है। हम सब मिलकर एक प्रगतिशील समुदाय बनाना चाहते हैं जो लोगों में खुद को ऊपर उठाने की क्षमता को आत्मसात करके और इसके लिए आवश्यक सभी साधन उपलब्ध कराएं।

    सूद चैरिटी फाउंडेशन का उद्देश्य दृष्टि वंचितों को बेहतर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने, करियर के अवसर प्रदान करने और स्वावलंबन की ओर ले जाने वाली स्वास्थ्य सेवा का समर्थन करने में मदद करके उनके लिए एक रास्ता तैयार करना है।

    सूद चैरिटी फाउंडेशन की तरफ से यदि आप भी लोगो की मदद करना चाहते तो आप इस फाउंडेशन की मदद करके आप भी लोगो की मदद कर सकते है। सूद चैरिटी फाउंडेशन में एक support का सेक्शन बनाया गया है ,जहाँ से यदि आप डोनेशन देना चाहते है तो दे सकते है। इसके लिए आपको सोनू सूद चैरिटी फाउंडेशन के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर दे सकते है। 

    Sonu sood wikipedia (basics information) 

    आपमें से बहुत सारे लोग सोनू सूद के बेसिक जानकारी को जानना चाहते है ,जैसे की सोनू सूद की वाइफ कौन है ,इनका व्हाट्सएप्प नंबर क्या है ,फ़ोन नंबर ,age ,net worth ,आदि बहुत सारी जानकारिया जानना चाहते है तो चलिए जानते है इनकी बेसिक इनफार्मेशन को। 
    Name Sonu sood
    Sonu sood whatsapp number 9321472118(only whatsapp)
    Sonu sood wife Sonali sood
    Sonu sood mobile number 1800 1213 711
    Sonu sood age 48 year (30 jully 2021)
    Sonu sood net worth $17 million (125 crore in indian rupee)
    Sonu sood foundation soodcharityfoundation.org


    conclusion 

    इस आर्टिकल में हम लोगो ने सोनू सूद के बारे में जाना ,जैसे की सोनू सूद की सक्सेस स्टोरी ,बायोग्राफी ,इनका एजुकेशन क्वॉलिफिकेटिन ,कोरोना के दौरान किये गए सामाजिक कार्य ,इनका नेट वर्थ ,और इनके कुछ बेसिक जानकारिया भी प्राप्त की। यदि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट में जरूर बताये। और आर्टिकल लिखते समय कुछ गड़बड़ हुआ हो तो हमे सूचित जरूर करे ,हम उसमें  तुरंत सुधार करेंगे। आपका एक मैसेज इस आर्टिकल को और बेहतर बना सकता है ,इसीलिए फीडबैक देना न भूले। 

    Post a Comment

    और नया पुराने