.

बाइक का इन्सुरेंस क्लेम कैसे करे || how to claim bike insurance

bike insurance claim kaise kare

भारत में सड़क दुर्घटनाएं होना आम बात है। विशेष रूप से दोपहिया वाहनों से होने वाली दुर्घटनाएं भारत में व्यापक हैं। सड़कों की खराब स्थिति, तेज गति से वाहन चलाना, यातायात नियमों का पालन न करना आदि कई कारणों ने भारत को हर साल सबसे अधिक सड़क दुर्घटनाओं वाला देश बना दिया है।
bike insurance claim kaise kare
इन दुर्घटनाओं में से अधिकांश दुर्घटनाएं आर्थिक नुकसान का कारण बनते हैं।आज हर उस व्यक्ति के लिए बीमा (Insurance)अनिवार्य है जिसके पास दोपहिया वाहन है। मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार भारतीय सड़कों पर चलने वाली प्रत्येक बाइक के लिए तृतीय-पक्ष दोपहिया बीमा(Third party insurance )होना अनिवार्य है।और जिनके पास insurance नहीं है उन्हें जुर्माना भी देना पड़ता है। लेकिन जहां इंटरनेट ने दोपहिया बीमा की खरीद और नवीनीकरण को आसान और त्वरित बना दिया है, वहीं अधिकांश बाइक मालिक insurance claim की प्रक्रिया से अनजान हैं। अगर उनकी बाइक का एक्सीडेंट हो जाए तो उन्हें समझ नहीं आता कि क्या करें। आइए समझते हैं कि बाइक बीमा दावा क्या है और दावा कैसे दर्ज किया जाए।

    बाइक बीमा दावा क्या है?(What is a bike insurance claim in hindi )

    दोपहिया बीमा खरीदकर, आप बीमा प्रदाता के साथ अनुबंध करते हैं। सरल शब्दों में कहे तो इन्सुरेंस में कहा गया है कि दुर्घटना के कारण हुए नुकसान के लिए बीमा कंपनी आपको भुगतान करेगी।चलिए इसको समझने के लिए हम एक उदाहरण लेते है। मान लीजिए कि आप काम पर जाते समय दुर्घटना का शिकार हो गए और आपके पास एक वैध दोपहिया बीमा पॉलिसी है। ऐसे परिश्थिति में आपको बीमा प्रदाता (Insurance company )के साथ 'क्लैम ' दर्ज कराना होगा।इस क्लेम के माध्यम से हम insurance company को अपने एक्सीडेंट के बारे में बताना होता है। इसके बाद कंपनी आपके क्लैम की जाँच करती है और जाँच सही होने पर आपकी मदद करती है।

    बाइक बीमा क्लैम की प्रक्रिया क्या होती है ?

    जैसा की आप जानते है की यदि आपके पास स्वास्थ्य बीमा है, तो आप फ्री में दवाओं की सुविधा ले सकते हैं। यही बात बाइक बीमा में भी उपलब्ध होता है। स्वास्थ्य बीमा में, आप कैशलेस दावों की सुविधा का उपयोग कर सकते हैं यदि आप बीमा प्रदाता के नेटवर्क अस्पतालों में से किसी एक में भर्ती हैं तो ।
    how to claim insurance for bike accident
    इसी तरह बाइक बीमा में भी होता है। बीमा कंपनियों के पास गैरेज का एक नेटवर्क होता है। यदि आपकी बाइक खराब हो जाती है, तो आप अपने बीमा कंपनी के नेटवर्क गैरेज में जा सकते हैं और खर्चों की चिंता किए बिना अपनी बाइक की मरम्मत करवा सकते हैं। और आपकी इन्सुरेंस कंपनी गैरेज के साथ सीधे मरम्मत बिलों का निपटान करेगी ।
    लेकिन अगर किसी कारण से नेटवर्क गैरेज में आपकी बाइक की मरम्मत नहीं की जाती है, तो आपको पहले बिलों का भुगतान करना होगा और फिर अपने बीमा कंपनी द्वारा इसकी प्रतिपूर्ति कर दी जाती है और वो पैसे आपके बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है । लेकिन ध्यान दें कि आपकी बीमा कंपनी केवल पॉलिसी की कवरेज सीमा तक ही भुगतान करती है।

    बाइक बीमा क्लेम कैसे दर्ज करें?

    भारत में अधिकांश बाइक बीमा कंपनियों की इंस्युरेन्स दाखिल करने की प्रक्रिया समान है, लेकिन कुछ छोटे बदलाव हो सकते हैं। बाइक बीमा दावा प्रक्रिया के लिए आपको जिन बुनियादी चरणों का पालन करना होगा, वे यहां दिए गए हैं-
    • दुर्घटना में शामिल वाहन/वाहनों की पंजीकरण संख्या नोट करें।
    • यदि दुर्घटना का कोई कानूनी पहलू है, तो नजदीकी पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज करें। दावा दायर करने के लिए शिकायत प्रति की आवश्यकता होगी।
    • हो सके तो दुर्घटना का समय और स्थान जैसी बातों पर ध्यान दें। अगर कोई गवाह है तो उसका नाम और संपर्क विवरण नोट करें।
    • दावा दायर करने के लिए अपने बीमा प्रदाता से संपर्क करें। यह फोन पर या बीमा प्रदाता के नजदीकी शाखा कार्यालय में जाकर किया जा सकता है। कुछ बीमा कंपनियां ऑनलाइन दावा दाखिल करने की सुविधा भी प्रदान करती हैं।
    • सफलतापूर्वक दावा दायर करने के लिए आवश्यक दस्तावेज जमा करें।

    बाइक बीमा दावा दायर करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

    आपको अधिकतर निम्लिखित दस्तावेजों आवश्यकता होगी :-
    • एफआईआर या पुलिस शिकायत कॉपी
    • बाइक रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट कॉपी
    • बीमा पॉलिसी दस्तावेज
    • लाइसेंस कॉपी
    • प्रतिपूर्ति दावों के मामले में मूल बिल
    एक बार जब ये दस्तावेज़ जमा हो जाते हैं और बाइक क्षति बीमा दावा दायर कर दिया जाता है, तो बीमा प्रदाता का एक सर्वेक्षक क्षति का निरीक्षण करने के लिए गैरेज आएगा । यदि सब कुछ क्रम में रहा तो आपका दावा स्वीकार कर लिया जाएगा।और आपको मिनिमम सात दिन और अधिकतर पंद्रह दिन के अंदर आपको पैसे मिल जाते है।

    बाइक बीमा दावा खारिज करने के कारण

    कभी-कभी कई सारे लोगो का इन्सुरेंस क्लैम कैंसिल हो जाता है। मतलब की इन्शुरेंस कंपनी उनको पैसे नहीं देती है और उनके आवेदन को रद्द कर देती है। ऐसा तभी होता है जब आप उनकी पालिसी को फॉलो नहीं करते है। इन्सुरेंस क्लैम ख़ारिज होने के कुछ कारण निम्नलिखित है :-
    • दावा प्रपत्र में गलत जानकारी
    • शराब पीकर वाहन चलाना
    • वैध लाइसेंस के बिना ड्राइविंग करना
    • दावा दस्तावेज क्रम में नहीं हैं
    • अपने बीमाकर्ता को दुर्घटना की सूचना देने में देरी करना
    • एक्सपायर्ड टू-व्हीलर इंश्योरेंस ले जाना
    इस पोस्ट में हमने जाना की बाइक बीमा दावा क्या है, एक्सीडेंट होने के बाद बाइक का इन्शुरेंस क्लैम कैसे करते है, बाइक बीमा क्लैम की प्रक्रिया क्या होती है ?बाइक insurance claim kaise karte hai .और बाइक इन्सुरेंस किन कारणों से रद्द हो जाता है।आपको ये आर्टिकल कैसा लगा आप अपना फीडबैक कमेंट में जरूर बताइयेगा।

    Post a Comment

    और नया पुराने