.

मानसून क्या होता है और इस साल कब आएगा मानसून जानिए पूरी जानकारी || मानसून न्यूज़ 2021

मानसून क्या है ?

आज के इस आर्टिकल में हमसभी लोग मानसून से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करेंगे। जैसे की मानसून क्या होता है, मानसून का अर्थ क्या है, मानसून कितने प्रकार के होते है, मानसून की उत्पति कैसे होती है ,और भी बहुत सारी प्रश्नो का उत्तर जानेंगे। चुकी भारत एक कृषि प्रधान देश है इसीलिए यहाँ सभी को मानसून के बारे में पाता होना चाहिए। तो चलिए जानते है मानसून से संबंधित जानकारी।
मानसून क्या है


    जैसा की आप सभी लोग जानते है की भारत में छह प्रकार के मौसम पाया जाता है जिसमे गर्मी ,बर्षात और जाड़ा मुख्य रूप से जाना जाता है। लेकिन बर्षात में बारिश एक खास समय पर होती है जिसे बोलचाल की भाषा में मानसून भी कहा जाता है। दूसरी भाषा में कहे तो मानसून उन हवाओ को कहते है जो हिन्द महासागर और अरब सागर से उठकर हिंदुस्तान के दक्षिण-पश्चिमी तट से होते हुए पाकिस्तान बांग्लादेश और भारत आदि में भारी वर्षा कराती है। यह मुख्यतः चार महीने जून से सितम्बर तक सक्रीय रहता है। 

    मानसून का शाब्दिक अर्थ क्या होता है ?

    मानसून का शाब्दिक अर्थ मौसमी पवन होता है जिसके कारण भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में भारी वर्षा होती हैं। हाइड्रोलॉजी के अनुसार मानसून का अर्थ वैसी हवा से हैं जिसके कारण किसी क्षेत्र में भारी वर्षा होती हैं। मानसून शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश के लिए किया गया था जो  उस समय बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से आकर इन क्षेत्रो में भारी वर्षा कराती थी।
    इसे भी पढ़े :-

    मानसून शब्द के बारे में अक्सर लोग कहते है की यह शब्द अंग्रेजी के मॉनसून शब्द से लिया गया है लेकिन वास्तव में अंग्रेजो ने मानसून शब्द को पुर्तगाली भाषा के मॉन्साओ से लिया था ,इसका मुख्य रूप से उद्गम शब्द अरबी भाषा है ,अरबी भाषा के मौसिम शब्द से लिया गया है। अतः मानसून शब्द की उत्पति अंग्रेजी  मॉनसून शब्द से हुआ ,अंग्रेजी का मॉनसून शब्द की उत्पति पुर्तगाली शब्द मॉन्साओ से हुआ और मॉन्साओ शब्द की उत्पति अरबी भाषा के मौसिम शब्द से हुआ है। 
    मानसून की उत्पति कैसे होती है ?

    भारतीय मानसून की उत्पत्ति के सिद्धांत

    अब तक हम सभी ने जाना की मानसून क्या होता है और मानसून शब्द की उत्पति कैसे हुई और इसका शाब्दिक अर्थ क्या  है। अब हमलोग जानेगे की आखिरकर मानसून की उत्पति कैसे होती है और यह जून के माह में ही क्यों आता है जाड़े और शर्दी के मौसम में क्यों नहीं आता है ?और मानसून जब भी आता है तो अपने साथ आंधी और तूफान क्यों साथ लाता है। तो चलिए जानते है की मानसून की उत्पति कैसे होती है ?

    मानसून की उत्पति कैसे होती है ?

    मानसून की उत्पति के संबंध में कई सारे संकल्पनाएँ प्रचलित है ,जिसमे जेट स्ट्रीम सिद्धांत अधिक महत्वपूर्ण एवं सटीक है। इसके आलावा मानसून के उत्पति के संबंध में एक भूमध्यरेखीय पछुवा पवन सिद्धांत भी है ,मानसून की तापीय संकल्पना भी है। तो चलिए हमलोग जेट स्ट्रीम संकल्पना के बारे में जानते है की क्या है जेट स्ट्रीम संकल्पना और यह मानसून की उत्पति के लिए कैसे उत्तरदायी है। 

    जेट स्ट्रीम सिद्धांत क्या है और यह मानसून के लिए कैसे उत्तरदायी है ?

    मानसून की उत्पति में जेट स्ट्रीम का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। जेट स्ट्रीम एक वायु प्रणाली है जो मानसून के लिए सबसे अधिक उत्तरदायी है। जेट स्ट्रीम वायु प्रणाली एक नवीनतम और विश्वसनीय सिद्धांत है। वायुमंडल के 9 से 18 km के बिच की वायु प्रणाली को जेट स्ट्रीम कहा जाता है यह जेट वायुवानो को उड़ाने में सहायक होता है इसीलिए इसे जेट स्ट्रीम कहा जाता है। इन हवाओ की गति पश्चिम की ओर होती है। इन हवाओ के कारण धरती पर मौसम में परिवर्तन होता रहता है। 

    सर्दी के मौसम में भारत के ऊपर से जेट स्ट्रीम गुजरती है चुकी जेट स्ट्रीम एक पछुआ हवा है जिस कारन यह पश्चिम की ओर बहता है इसीलिए जब यह एशिया और भारत के ऊपर से गुजरता है तो तिब्बत हिमालय के कारण यह दो भागो में बंट जाता है जिसकी उतरी शाखा हिमालय के उतर में और दक्षिणी शाखा हिमालय के दक्षिण में प्रवाहित होता है। 

    जब जेट स्ट्रीम हवा भारत के ऊपर से गुजरती है तो यह पृथ्वी पर के हवा को ऊपर जाने नहीं देती है जिस कारन भारत की हवा गरम होने लगाती है जिसके कारण भारत पाकिस्तान और बांग्लादेश में गर्मी पड़ती है। उस समय पृथ्वी पर की हवा वायुमंडल में नहीं जा पाती है जिसके कारण न तो इन क्षेत्रो में निम्न दाब बन पता है और न ही मानसूनी हवाएं इधर आती है। 
    इसे भी पढ़े :-

    लेकिन गर्मी के दिन आते ही पछुआ जेट स्ट्रीम भारत के ऊपर से खिसकने लगता है जिसके कारण भारत की धरातलीय हवाएं ऊपर की ओर उठाने लगाती है ,धरातलीय हवाओ के ऊपर जाने के बाद भारत की धरातलीय पर खाली जगह बनता है जिसको भरने के लिए मानसूनी हवाएं तेजी से भारत में प्रवेश करती है। और यही कारण है की जब भी मानसून आता है अपने साथ आंधी जरूर लाता है। 

    भारत में मानसूनी हवाएं आने के बाद यहाँ की वायुमंडल ठंडा होने लगता है जिससे की मानसून आने के कुछ दिन बाद से बारिश शुरू हो जाती है। और भारत के अधिकतर हिस्सों में कृषि कार्य प्रारम्भ हो जाता  है। 

    मानसून से संबंधित प्रश्न 

    भारत में मानसून कब आता है ?

    भारत में अक्सर मानसून जून माह में प्रवेश कर जाता है। भारत के कुछ राज्य में यह देर से भी आता है। लेकिन अधिकतर राज्य में मानसून जून महीने में आ जाता है। भारत में सबसे पहले मानसून केरल राज्य में आता है इसीलिए केरल को मानसून का में गेट भी कहा जाता है। केरल में मानसून 1st जून को आ जाता है। 

    भारत में मानसून कैसे आता है ?

    भारत में के ऊपर जब जेट स्ट्रीम रहता है तो उस समय भारत की स्थलीय हवा गर्म होने लगाती है जिसके कारन भारत में काफी तेज गर्मी पड़ती है। गर्मी के मौसम में जब सूर्य कर्क रेखा के ऊपर आ जाता है तब जेट स्ट्रीम हवाएं भारत के ऊपर से हटने लगती है ,जिससे भारत की गर्म हवाए ऊपर उठने लगती है। गर्म हवाओ के ऊपर जाने के बाद भारत में बने खली जगह को भरने के लिए हिन्द महासागर से मानसूनी ठंडी हवाए तेजी से आती है जिससे भारत की वायुमंडल ठंडा हो जाता है और कुछ दिन बाद बारिश शुरू हो जाती है। जिसे हम लोग कहते है की मानसून आ गया है। 

    मानसून कितने प्रकार के होते है ?

    भारत में मानसून मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है। 
    • उतरी-पूर्वी मानसून {उत्तरी-पूर्वी मानसून को शीतकालीन मानसून भी कहा जाता है ,यह मानसून नवंबर से जनवरी तक रहता है। }
    • दक्षिणी-पश्चिमी मानसून {दक्षिणी-पश्चिमी मानसून को ग्रीष्म कालीन मानसून कहा जाता है ,यह मानसून  ऑक्टूबर तक रहता है। }

    मानसून विस्फोट क्या है ?

    जब जेट स्ट्रीम देर से हटता है तो धरातलीय हवाएं बहुत अधिक गर्म हो जाती है और जब जेट स्ट्रीम हटता है तो धरातलीय हवाएं तेजी से ऊपर की ओर जाती है जिससे मानसूनी हवाएं तेजी से आती है। इससे चक्रवात जैसी स्थिति बन जाती है और वहां भारी मात्रा में बारिश होती है। चक्रवाती तूफान आ जाते है। जिसे मानसून विस्फोट कहा जाता है। 
    इसे जरूर पढ़े :-

    निष्कर्ष :-इस पोस्ट में हम सभी ने मानसून के बारे में बहुत बारीकी से जाना है। जिसमे मानसून क्या है ,मानसून का शाब्दिक अर्थ क्या है ,मानसून की उत्पति कैसे होती है ,मानसून की उत्पति का सिद्धांत ,जेट स्ट्रीम क्या है ,और बहुत सारे मानसून से संबंधित प्रश्न को जाने। यदि आपका कोई मानसून से संबंधित प्रश्न हो तो आप कमेंट में जरूर पूछे और अपना फीडबैक जरूर दे। 

    Post a Comment

    और नया पुराने